सभी देश द्रोहियों को शुभकामनाएं

0
91
सभी देश द्रोहियों को शुभकामनाएं
सभी देश द्रोहियों को शुभकामनाएं

सभी देश द्रोहियों को आज स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

निकम्मे पुत्र को आशीर्वाद

आज हमारे निकम्मे पड़ोसी का जन्मदिन है। उसको हमारा आशीर्वाद वह खूब तरक्की करे, नालियों में गिरे, गोबर लगाए, खून में नहाये और मिटटी में मिल जाए।

बाप तो आखिर बाप ही होता है

वैसे तो हम, अपने इस पड़ोसी को उल्लू का पट्ठा, भी नहीं कह सकते क्योकि, ये औलाद तो हमारी ही  है। क्या हुआ जो, अगर राहुल गाँधी की तरह अपने माँ-बाप के कंट्रोल में नहीं है। अपना खून तो आखिर अपना ही होता है, इसलिए अपनी औलाद को चाहे कितनी ही गाली देलो लेकिन खून को नहीं, क्योकि इससे तो गाली हमें ही लगेगी।

हमारा पुत्र आज काफी बड़ा हो गया है। अपने बाप को मारने की सोचता है। लेकिन बाप तो आखिर बाप ही होता है, बेटा कैसा ही क्यों न हो दिल से आशीर्वाद तो निकलता ही है। ये बात अलग है की, आशीर्वाद की गुणवत्ता  में कुछ गड़बड़ हो सकती है। खैर छोड़ो अब, अब पछताये क्या होवत. जब चिड़िया चुग गयी खेत । ये बेटा तो पूरा का पूरा हाथ से निकल चूका है।

सभी देश द्रोहियों को शुभकामनाएं

आज इस सुनहरे अवसर पर, मैं उन सब को उसकी स्वतंत्रता दिवस की. शुभकामनाये देना चाहता हूँ। जो लाल चौक पर तिरंगा जलाते है, बस्तर मांगे आजादी –कश्मीर मांगे आजादी, अफजल हम शर्मिंदा हैं – तेरे कातिल जिन्दा है, के नारे लगाते है। राष्टीय गान जिनको अपना नहीं लगता, वन्देमातरम कहने से जिनका धर्म भ्रष्ट हो जाता है, गाय को खाने के बाद भी, अपने आप को देश भक्त कहना नहीं भूलते, सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगते है, करोड़ों के घोटाले करके अपने आपको मासूम तथा निर्दोष बताते हैं।

अपना तो स्वतंत्रता दिवस कल आएगा। जब मोदी तिरंगा झंडा लाल किले पर फहराएगा। जय हिन्द